सामान्य सूचना

शिमला वर्तमान में हिमाचल प्रदेश की राजधानी है और आज़ादी से पूर्व भारत में अंग्रेज़ों की राजधानी रही थी, जितना हम सोच सकते है वो सभी प्राकृतिक उपहार आशीर्वाद के रूप में शिमला को मिले है यह स्थान चारों ओर से हरे भरे पहाड़ों और हिमाच्छादित चोटियों से घिरा हुआ है औपनिवेशिक युग के दौरान की संरचनाओं एवं यहाँ की शांत पहाड़ियों की आभा इसे अन्य पहाड़ी क्षेत्रों  से बहुत अलग बनाती है। अभूतपूर्व विस्तार के साथ तेजी से उभरता हुआ शिमला अपनी औपनिवेशिक विरासत एवं भव्य पुरानी इमारतों के लिए जाना जाता है, उनमें से कुछ सुप्रसिद्ध नाम वाइसरागल लॉज, आकर्षक आयरन लैंप पोस्ट और एंग्लो-सैक्सन हैं।

मॉल रोड पर विभिन्न प्रकार की दुकानें ,भोजनालय शहर के आकर्षण का केंद्र है, यहाँ का स्कैंडल प्वाइंट पटियाला के पूर्व महाराजा की एतिहासिक घटना से जुड़ा हुआ है, यहाँ से दूरदराज़ की बर्फ से ढकी चोटियों का दृश्य नज़र आता है।

शिमला पहुंचना बहुत आसान है , क्यूंकि यह थल मार्ग, रेल मार्ग एवं वायु मार्ग से जुडा हुआ है।शिमला पहुंचने के लिए यदि थल मार्ग एवं रेल मार्ग का उपयोग किया जाता है तो इस दौरान प्राकृतिक सुन्दरता का भरपूर आनंद लिया जा सकता है । यहाँ के पुराने बंगले एवं उनकी त्रिभुजाकार छतें और सुंदर उद्यान आज भी शिमला की पुरानी यादों को ताज़ा करते हैं ।

भ्रमण के लिए उपयुक्त समय

मार्च से जून

यह अवधि शिमला भ्रमण के लिए सबसे उपयुक्त है जब मैदानी इलाकों में तापमान शिखर पर होता है! शिमला का मौसम इस अवधि मे बड़ा सुहावना होता है और यहाँ का तापमान 15 डिग्री से 25 डिग्री के दरमयान रहता है।

दिसम्बर से जनवरी

मौसम इस अवधि के दौरान ठंडा और बर्फ़ वाला होता है । आकाश से आने वाले बर्फ के फ्वाहों से आसपास की चोटियाँ ढक जाती है । जिन पर्यटकों को बर्फ का गिरना पसंद है और बर्फ के साथ खेलना पसंद है वह इस अवधि में शिमला जरुर आते है! सर्दियौं में रात का तापमान शुन्य डिग्री तक पहुँच जाता है और दिन के दौरान लगभग 15 डिग्री हो जाता है। इस मौसम में गर्म कपड़ों की आवश्यकता होती है और जैकेट से ठंडी हवाओं से स्वयं को बचाना जरूरी है। क्रिसमस और नए साल के दौरान बहुत तादाद में पर्यटक शिमला आते है और सभी होटल पूरण रूप से भरे रहते है । यह सुझाव दिया जाता है की क्रिसमस की अवधि के दौरान अग्रिम बुकिंग करना ही समझदारी होगी ।